कभी-कभी पहाड़ों में हिमस्खमलन सिर्फ एक ज़ोरदार आवाज़ से ही शुरू हो जाता है

Sunday, January 15, 2017

साथियों

कुछ अपरिहार्य कारणों से व कुछ अन्‍य व्‍यस्‍तताओं के कारण आवेग का प्रकाशन कुछ समय के लिये स्‍थगित कर दिया गया था किंतु जनवरी 2017 से आवेग पत्रिका को दुबारा शुरू  किया जा रहा है। अब से यह दीवार पत्रिका नियमित प्रकाशित की जायेगी।


सधन्‍यवाद
आवेग टीम

No comments:

Post a Comment

Most Popular